Google Custom Search


Custom Search

आज का विचार

आज का विचार (Thought of the Day in Hindi): (Subscribe by e-mail)

Last Modified: शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2017

SMARTPHONE addiction-क्या आपको मोबाइल की लत है?

Freeimages.com

दोस्तों आज के इस तकनीक के युग में हम सभी mobile का use करते हैं| एक तरह से देखा जाय तो इसके काफी फायदे भी हैं और अगर इसका प्रयोग एक जरूरत की वस्तु की तरह किया जाये तो यह एक बड़े ही कमाल की चीज है लेकिन जैसे-जैसे mobile का प्रयोग बढ़ रहा है वैसे-वैसे इसके अनेक नुक्सान भी सामने आ रहे हैं जैसे कि :

1.    घंटों अपने mobile पर game खेलने, पढने और message करने से आखों पर पड़ने वाला तनाव जिसकी वजह से सिरदर्द, आखों का लाल होना और धुंधला जैसी problems होती हैं|

2. नींद ना आने की समस्या : अगर आप बिस्तर पर लेटकर आराम करने की बजाय message पढ़ते हैं या फिर दूसरों के messages को reply करते हैं तो आपकी नींद पर इसका बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है और आप ठीक से सो नहीं पाते|

Last Modified: बुधवार, 1 फ़रवरी 2017

How many Blinds (कितने नेत्रहीन)(Akbar Birbal Stories in Hindi)

(दोस्तों अकबर-बीरबल के किस्से सदियों से हमारे देश में सुने-सुनाये जाते हैं| ये किस्से न केवल मनोरंजक होते हैं बल्कि इनमें कुछ ने कुछ सीखने के लिए भी होता है| पेश हैं इन्हीं में से एक मशहूर किस्सा|)

एक बार अकबर ने बीरबल से पूछा कि बीरबल क्या तुम जानते हो कि हमारे राज्य में कितने नेत्रहीन व्यक्ति हैं?

बीरबल ने इस सवाल का जवाब ढूँढने के लिए अकबर से एक हफ्ते का समय माँगा|

Last Modified: शुक्रवार, 27 जनवरी 2017

Swami Vivekananda inspirational quotes in hindi

(Swami Vivekanand)

Narendranath Datta (popularly known as Swami Vivekanand) (12 January 1863 - 4 July 1902) :- He was Founder of Ramakrishna Mission, graduated from Calcutta University, he had acquired a vast knowledge of different subjects, especially Western philosophy and history. He introduced Indian philosophies of Vedanta and Yoga to the Western world.

1.    You cannot believe in God until you believe in yourself.

आप भगवान पर तब तक भरोसा नहीं कर सकते जब तक आप खुद पर भरोसा नहीं करते|
– स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekanand)

2.    Arise! Awake! and stop not until the goal is reached.

उठो जागो और तब तक मत रुको जब तक तुम अपने लक्ष्य तक नहीं पहुंच जाते|
– स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekanand)

Last Modified: बुधवार, 4 जनवरी 2017

Trust Yourself - दूसरों से पहले खुद की सुनिए|

FreeImages.com

बार बार मैंने देखा है कि लोग एक्सपर्ट की सलाह पर भरोसा करते हैं फिर उनको पता लगता है कि वह सलाह तो उनके लिए काम ही नहीं कर रही| उन्हें लगने लगता है कि जरुर इसमें उनकी ही कोई गलती होगी क्योंकि इस सलाह को तो काम करना चाहिए आखिर यह एक एक्सपर्ट की सलाह है|  मुझे हर हफ्ते एक ऐसी ई-मेल जरुर मिलती है जिसका अंत कुछ इस तरह से होता है क्या मैं नासमझ हूं? क्या मुझ में कोई कमी है जिसकी वजह से यह सलाह मेरे लिए काम नहीं कर रही ?

Last Modified: रविवार, 1 जनवरी 2017

KKKBI.COM की ओर से

 

आप सभी को 

 

नए साल की बहुत बहुत शुभकामनाएं !

Last Modified: शनिवार, 31 दिसंबर 2016

Dheerubhai Ambani motivational quotes in hindi - धीरुभाई अम्बानी के प्रसिद्द विचार

Dheerubhai Ambani (Source : flickr)

Dhirajlal Hirachand "Dhirubhai" Ambani (28 December 1932 – 6 July 2002) :- He was an Indian business tycoon, founded Reliance Industries in Bombay with his cousin. He had been figured in the The Sunday Times as top 50 businessmen in Asia, the combined fortune of the family was $60 billion, making the Ambanis the third richest family in the world, honored posthumously with the Padma Vibhushan for his contribution in  the field of Trade and Industry.

1.  Often people think opportunity is a matter of luck. I believe opportunities are all around us. Some seize it. Others stand and let it pass by.

ज्यादातर लोगों का विचार है कि अवसर मिलना किस्मत की बात होती है| मैं इस बात में यकीन करता हूँ कि हम सब अवसरों से घिरे हुए हैं| कुछ उनका फायदा उठा लेते है| दूसरे सिर्फ खड़े रहकर उनके गुजरने का इंतज़ार करते हैं|
 – धीरुभाई अम्बानी(Dheerubhai Ambani)

2.  I, as school kid, was a member of the Civil Guard, something like today’s NCC. We had to salute our officers who went round in jeeps. So I thought one day I will also ride in a jeep and somebody else will salute me.

जब मैं स्कूल में एक स्टूडेंट था तो उस वक्त मैं सिविल गार्ड का सदस्य भी था, यह कुछ-कुछ NCC की तरह का ही संस्थान था| जब हमारे अफसर जीपों में बैठकर गश्त कर रहे होते थे तो हमें उन्हें सलूट करना करना पड़ता था| तो मैं अक्सर सोचा करता था कि एक दिन मैं जीप में बैठा हूँगा और कोई और मुझे सलूट कर रहा होगा|
 –– धीरुभाई अम्बानी(Dheerubhai Ambani)