Google Custom Search


Custom Search

आज का विचार

आज का विचार (Thought of the Day in Hindi): (Subscribe by e-mail)

Last Modified: गुरुवार, 22 सितंबर 2011

आत्म-अनुशासन : कठिन-परिश्रम

(Original Post : Self-Discipline : Hard Work June 7th, 2005 by Steve Pavlina)
   
जिंदगी का सबसे बड़ा रहस्य यही है कि कोई बड़ा रहस्य नहीं है| आपका कोई भी लक्ष्य हो, आप उसे हासिल कर सकते हैं अगर आप काम करने के लिए तैयार हैं - ओपरा विनफ्रे

कठिन-परिश्रम - एक और मैला-कुचैला शब्द|

कठिन-परिश्रम की परिभाषा 
मेरे लिए कठिन-परिश्रम वह है जोकि आपको चुनौती देता है|

लेकिन आखिर चुनौती जरूरी क्यों है? क्यों न उसे ही किया जाए जोकि आसान है?

ज्यादातर लोग वही करते हैं जोकि आसान है और कठिन-परिश्रम से दूर रहते हैं - और यही वजह है कि आपको ठीक इसका उलटा करना चाहिए| जिंदगी के सतही अवसरों पर लोगों के झुंड-के झुंड टूट पड़ते हैं क्योंकि वे आसान होते हैं| अपेक्षाकृत ज्यादा कठिन चुनौतियों पर मुकाबला (competition) काफी कम होता है और अवसर कहीं ज्यादा|

Last Modified: सोमवार, 12 सितंबर 2011

आत्म-अनुशासन : इच्छा-शक्ति

(Original Post : Self-Discipline : Will Power June 7, 2005 by Steve Pavlina)  
एक सफल व्यक्ति और दूसरे लोगों के बीच फर्क, शक्ति की कमी या अज्ञानता का नहीं है बल्कि इरादे का है 
– विंस लोम्बार्डी  
इच्छा-शक्ति - इन दिनों कितना मैला-कुचैला सा शब्द है| आप कितने ही ऐसे विज्ञापन देख चुकें हैं जोकि अपने उत्पाद(Product) को इच्छा-शक्ति के विकल्प के तौर पर स्थापित करने कर प्रयास करते हैं| उनकी शुरुआत ही आपको यह बताने से होती है कि इच्छा-शक्ति बेकार की चीज है और फिर वे आपको कोई उत्पाद बेचने का पर्यास करते हैं जो कि ‘फ़ौरन और आसानी से’ (fast and easy) काम करता है| जैसे कि वजन घटाने की दवाएं या कुछ अजीब से दिखने वाले व्यायाम उपकरण (exercise equipment)| अक्सर वे, थोड़े ही समय में नामुमकिन से परिणामों की गारंटी भी दे डालते हैं-और यह उनके लिए तो एक जीती हुई बाजी ही है क्योंकि जिन लोगों में इच्छा-शक्ति की कमी है वे इन बेकार के उत्पादों को वापिस करने के लिए समय ही नहीं निकाल पाएंगे|

लेकिन जानते हैं, मजे की बात क्या है?..........इच्छा-शक्ति वाकई में काम करती है| लेकिन इसका पूरा लाभ उठाने के लिए आपको यह सीखना होगा कि यह क्या कर सकती है और क्या नहीं? जो लोग यह कहते हैं कि इच्छा-शक्ति काम नहीं करती, वे इसे, ऐसे तरीके से इस्तेमाल करने की कोशिश करते हैं जोकि इसकी क्षमता से बाहर है|