Google Custom Search


Custom Search

आज का विचार

आज का विचार (Thought of the Day in Hindi): (Subscribe by e-mail)

Last Modified: शनिवार, 21 जनवरी 2012

अपने काम को खुशी से कीजिए या फिर काम ही मत कीजिए|

(Original Post : Love Your Work or Don’t Work at All Dec 19th, 2007 by Steve Pavlina)
   
ऐसा क्यों है कि इतने अधिक व्यक्ति, उस काम (आजीविका/व्यवसाय) को सहन करने के लिए सहर्ष ही तैयार हो जाते हैं, जिसे करने से उनको जरा भी खुशी नहीं मिलती, सिर्फ उस तनख्वाह के चैक(check) की खातिर जो उन्हें महीने के अंत में मिलता है? मैं(स्टीव पव्लीना) सोचता हूँ कि इसकी वजह यह है कि उनमें से अधिकतर को इस बात को कोई अंदाजा नहीं है कि अपने काम से प्यार हो जाना, कैसा होता है? उनके डर, उनकी शक्ति पर हावी हो जाते है, इसलिए, वे कभी, आगे बढ़ कर, यह जान ही नहीं पाते कि काम को, पैसे के बजाय, प्यार के लिए करना कैसा होता है|

अब आइए, खलील गिब्रान के ग्रंथ “पैगम्बर(The Prophet)” से लिए गए, इस परिच्छेद पर जरा गौर करें|
“कार्य प्यार को दर्शाता है|

और अगर आप काम को प्यार के बजाय, सिर्फ अरुचि से ही कर सकते हैं, तो अच्छा यही होगा कि आप, अपना काम छोड कर, मंदिर(धार्मिक स्थल) के दरवाजे पर बैठ जाएँ और उनसे भिक्षा(दान) लें जो अपना काम आनंद से करते हैं|

Last Modified: बुधवार, 18 जनवरी 2012

डिप्रेशन (अवसाद) को कैसे दूर भगाएं?

(Original Post : Overcoming Depression Jun 29th, 2006 by Steve Pavlina)   

इस हफ्ते की शुरुआत में मैनें, “निराशावादी लोगों की मदद कैसे करें” (लेख जल्द ही उपलब्ध होगा) विषय पर एक लेख लिखा था| लेकिन क्या हो, अगर आप खुद ही लंबे समय से उदासी महसूस कर रहे हों तो? इस लेख में मैं, आपको नकारात्मक मन:स्थिति से निकलने के एक तरीके के बारे में बताना चाहता हूँ, जोकि डिप्रेशन (अवसाद) को थोड़े समय के लिए ही नहीं बल्कि हमेशा के लिए दूर कर सकता है| इसे सरल बनाने के लिए मैं डिप्रेशन का उदाहरण दे रहा हूँ, लेकिन यह तरीका दूसरी नकारात्मक भावनाओं, जैसे कि गुस्सा, चिंता, नाराजगी आदि पर भी काम करता है|

डिप्रेशन क्या है?
डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्तियों के पास अक्सर उदास रहने की एक, उचित सी लगने वाली, वजह होती है, और बाहर से देखने पर उन कारणों में कुछ भी गलत नहीं लगता| अगर आप आर्थिक तंगी, सेहत या और दूसरी अनचाही चुनौतियों का सामना कर रहे हैं तो कोई भी समझदार व्यक्ति आपके हालात को देखकर, आपसे सहमत हो जाएगा| “हाँ भई, यह तो बड़े मुश्किल हालात हैं|”