Google Custom Search


Custom Search

आज का विचार (on Vichar Mantra)

आज का विचार (Read on Vichar Mantra): (Subscribe by e-mail)

Last Modified: मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012

हिम्मत एक प्रवेशद्वार है

(Original Post : Courage is the Gateway, March 30th, 2005 by Steve Pavlina)  

डॉ डेविड हव्किंस नें अपनी किताब “Power vs. Force : The Hidden Determinants of Human Behavior”, में एक अनुक्रम(hierarchy) के बारे में जिक्र किया है जिसमें मनुष्य की भावनात्मक अवस्थाओं के बारे में बताया गया है जहाँ पर शर्म और अपराध-बोध(guilt) सबसे निचले पायदान पर और शांति और ज्ञान(enlightenment) सबसे ऊँचे पायदान पर स्थित होते हैं|

हव्किंस ये दावा करते हैं कि जहाँ निचले स्तर की भावनात्मक अवस्थाएं हमें कमजोर करती हैं वहीं उच्च स्तर की अवस्थाएं हमें शक्तिशाली बनाती हैं| और हिम्मत, शक्ति और कमजोरी(दुर्बलता) के बीच की वह रेखा होती है जो इन दोनों अवस्थाओं को विभाजित करती है| यह पहली सकारात्मक अवस्था होती है| हिम्मत, ऊर्जा के निम्न(lower) स्तरों को, जहाँ हमें ऐसा लगता है कि जैसे हम जीवन से संघर्ष कर रहे हों, ऊर्जा के उच्च स्तरों, जहाँ हम जीवन के साथ सहयोग करने लगते हैं, से अलग करती है| जैसा कि हव्किंस लिखते हैं :