Google Custom Search


Custom Search

आज का विचार

आज का विचार (Thought of the Day in Hindi): (Subscribe by e-mail)

Last Modified: शुक्रवार, 11 दिसंबर 2015

Salman Khan Quotes in hindi

source : wikipedia
Abdul Rashid Salim Salman Khan (popularly known as Salman Khan) (Born on 27 Dec 1965) : - one of the most popular and successful Indian Film Actor(Bollywood)

1.    Style is something very individual, very personal, and in their own unique way, I believe everyone is stylish.

स्टाइल एक ऐसी चीज होती है जो बहुत ही निजी, बहुत ही अनोखी और हरेक के लिए अलग-अलग होती है, मुझे लगता है कि हर व्यक्ति स्टाइलिश होता है|
 – सलमान खान (Salman Khan)

2.    A lion runs the fastest when he is hungry.

एक शेर तभी सबसे तेज दौड़ता है जब वह भूखा होता है| 
 – सलमान खान (Salman Khan)

Last Modified: बुधवार, 9 दिसंबर 2015

सबसे खतरनाक होता है हमारे सपनों का मर जाना! - Inspirational Poetry by Paash

Pash
Source : wikipedia 
पाश (अवतार सिंह संधू): 9 सितम्बर 1950 – 23 मार्च 1988, प्रसिद्द कवि

मेहनत की लूट सबसे खतरनाक नहीं होती
पुलिस की मार सबसे खतरनाक नहीं होती

गद्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे खतरनाक नहीं होती
बैठे-बिठाए पकडे जाना बुरा तो है
सहमी-सी चुप में जकड़े जाना बुरा तो है
सबसे खतरनाक नहीं होता|
कपट के शोर में सही होते हुए भी
दब जाना बुरा तो है
जुगनुओं की लौ में पढ़ना
मुट्ठियाँ भींचकर बस वक्त निकाल लेना
बुरा तो है
सबसे खतरनाक नहीं होता|

Last Modified: मंगलवार, 17 नवंबर 2015

अपनी concentration को तीन सरल आसनों से कैसे बढाएं ?


“अगर आप इसे पूरे ध्यान, पूरी एनर्जी, अच्छे दिल और अच्छे प्रदर्शन से कर पाएं तो फिर गीत आपको मंत्रमुग्ध कर देगा|” –लेवोन हेल्म (मशहूर संगीतकार और अभिनेता)


Cambridge Dictionary के अनुसार “concentration अपना ध्यान बाकी सभी चीजों से हटा कर जो काम आप अभी कर रहे हैं उस पर केन्द्रित करने की क्षमता है|”

हम सभी जानते हैं कि जीवन में सफल होने के लिए concentration एक जरूरी हुनर है| जो काम आप अभी कर रहे हैं अपना ध्यान उस पर केन्द्रित करने की क्षमता एक ऐसा अनमोल हुनर है जोकि आपके जीवन में हर कहीं काम आता है| अगर आप एक student हैं तो आपको अपनी पढ़ाई पर ध्यान देने की जरूरत होती है| अगर आप नौकरी करते हैं तो आपको, अपने काम सही ढंग से करने के लिए, अपना पूरा ध्यान इस पर केन्द्रित करने की जरूरत होती है| अगर आप एक खिलाड़ी हैं तो आपको अपने शरीर और मन को उस खेल पर पूरी तरह से केन्द्रित करना होता है, सिर्फ तभी आप उसे अच्छी तरह से खेल पाएंगे| वास्तव में जीवन के किसी भी क्षेत्र में सफल होने के लिए आपको concentration की जरूरत होती है|

क्या आपको लगता है कि अपनी concentration powers को बढ़ाना एक बहुत ही मुश्किल काम है| मैं आपको यकीन दिलाता हूँ कि आप अपनी concentration को इतनी तेजी से बढ़ा सकते हैं जितना कि आपने सोचा भी नहीं होगा|

Last Modified: बुधवार, 2 सितंबर 2015

A.P.J. Abdul Kalam Quotes in Hindi

A.P.J. Abdul Kalam (ए.पी.जे. अब्दुल कलाम)
Image Source : Wikipedia
A.P.J. Abdul Kalam (ए.पी.जे. अब्दुल कलाम)  (15 October 1931 – 27 July 2015) :-11th President of India, famously known as “Missile Man of India”, Aerospace scientist, Professor, Author.

1.    If a country is to be corruption free and become a nation of beautiful minds, I strongly feel there are three key societal members who can make a difference. They are the father, the mother and the teacher.

एक देश को corruption से मुक्त होने और एक खुशमिजाज लोगों का देश बनाने के लिए समाज में तीन तरह के लोगो का अहम् किरदार होता है| वे हैं father,mother और teacher.
– ए.पी.जे. अब्दुल कलाम (A.P.J. Abdul Kalam)

2.    Dreams are not those which comes while we are sleeping, but dreams are those when you don't sleep before fulfilling them.

सपने वे नहीं होते जिन्हें आप सोते हुए देखते हैं, सपने वे होते हैं जो खुली आखों से देखे जाते हैं, और जिनके लिए रातों की नींद कुर्बान की जाती है|
– ए.पी.जे. अब्दुल कलाम (A.P.J. Abdul Kalam)

Last Modified: सोमवार, 31 अगस्त 2015

जीवन में पीछे छूटने पर वापसी कैसे करें?


बचपन में, मैं साइकिल चलाना सीखना चाहता था लेकिन इसमें मुझे उम्मीद से ज्यादा वक्त लग रहा था| मैं हमेशा साईकल के दोनों तरफ supporting wheels लगा कर ही इसे चला पाता था और ज्यादा practice भी नहीं करता था, इसलिए मैं साईकल को बैलेंस करना नहीं सीख पा रहा था|

एक दिन मैंने देखा कि मेरी छोटी बहन (जोकि मुझसे ढाई साल छोटी थी) साईकल चलाना सीखने लगी है| अभी भी उसे ठीक से इसे चलाना नहीं आता था लेकिन वह इसे, मुझसे बेहतर तरीके से balance कर पा रही थी| यह विचार, कि वह मुझे हरा देगी, मेरे लिए हजम करना मुश्किल था!

इसलिए मैंने अपनी साईकल उठाई और इसे सड़क पर उतार दिया, मैंने ठान लिया था कि चाहे जो हो जाए मुझे ‘आज और अभी’ इसे चलाना सीखना है| मैंने, अपनी साईकल में supporting wheels लगाए और फिर पागलों की तरह इसे चलाने लगा| जितना संभव था, मैंने सड़क के किनारे उगी हुई घास के करीब रहने की कोशिश की ताकि अगर मैं गिरूँ भी तो मुझे ज्यादा चोट न लगे|

कई बार चलाने और रुकने के बाद आखिरकार मुझे साईकल को बैलेंस करना आ गया| फिर तो जैसे मुझे पंख लग गए| मैंने उन गर्मियों में काफी साईकल चलाई और फिर मैंने हमेशा के लिए इसे चलाना सीख लिया|
उस वक्त तक मुझे लगता था कि साईकल चलना सीखना बहुत मुश्किल काम है| यह डरावनी और सुन्न कर देने वाली चीज थी| मुझे गिरने से बहुत डर लगता था| लेकिन एक बार मैंने डर का सामना करने और तकलीफ झेलने की हिम्मत जुटा ली, तो मैं बड़ी तेजी से दूसरी तरफ पहुँच गया और मैंने इस नए हुनर को सीख लिया| फैसला लेने और साईकल चलाने के बुनियादी हुनर को सीखने में मुझे केवल एक घंटे का वक्त लगा| 

Last Modified: सोमवार, 30 मार्च 2015

मुश्किलों का स्वागत कीजिए

अपनी काम की समस्याओं का धन्यवाद दीजिए| क्योकिं आपको अपनी आधी इनकम उन्हीं की वजह से मिलती है| क्योंकि अगर गलत होने वाली चीजें नहीं होतीं, या फिर ऐसे कठिन लोग नहीं होते जिनका सामना आपको करना पड़ता है, या फिर समस्याएं नहीं होती, या फिर आपका काम उबाऊ नहीं होता, तो कोई भी व्यक्ति आपको मिलने वाली सैलरी के आधे में ही, इस काम करने लिए तैयार हो जाता|

किसी भी काम की मुश्किलों को हल करने के लिए समझदारी, सूझ-बूझ, कुशलता और हिम्मत की जरूरत पड़ती है| और आपके पास आपकी वर्तमान नौकरी होने की यही वजह है| और शायद यही वजह है कि आप इससे बेहतर कोई दूसरी नौकरी नहीं कर रहे| 

अगर हममें से हरेक और ज्यादा मुश्किलों का स्वागत करने लगे, और उन्हें खुशी-खुशी, एक अच्छे विवेक के साथ संभालना सीख जाए, बजाय उनसे परेशान होने के, तो हम बहुत तेजी के साथ आगे बढ़ सकते हैं| क्योंकि यह तो एक सच्चाई है कि काफी तादाद में बड़ी नौकरियाँ उन लोगों का इन्तजार कर रहीं होती हैं जोकि उनसे जुडी मुश्किलों से नहीं घबराते|

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

खुशी पहले, बाकी सब बाद में 
आखिर आपका मूल्य क्या है?
आत्म-अनुशासन : कठिन-परिश्रम

Read More Articles in Hindi 

यह लेख 'आज का विचार(भाग-1) से लिया गया है|
आज का विचार (भाग-1) खरीदें

Last Modified: गुरुवार, 26 मार्च 2015

तीन तोहफे!

एक बार की बात है कि किसी राज्य में एक राजकुमार रहता था जिसे उसके राज्य के सभी लोग पसंद करते थे और उसका सम्मान करते थे|

उसी राज्य में एक बेहद गरीब आदमी भी रहता था जो उस राजकुमार से बहुत चिढ़ता था, और वह लगातार उसके बारे में अपनी कडवी जुबान से अनाप-शनाप बातें बोलता रहता था|

राजकुमार को यह बात पता थी, फिर भी वह उसे अनदेखा कर दिया करता था|

लेकिन एक ऐसा वक्त भी आया जब राजकुमार के लिए उस व्यक्ति को अनदेखा करना मुश्किल हो गया; और फिर सर्दी की एक रात उस व्यक्ति के दरवाजे पर राजकुमार का एक नौकर आया जिसके पास आटे की एक बोरी, साबुन का एक बैग और चीनी का एक cone था|

नौकर उस व्यक्ति से कहा, “राजकुमार नें यादगार के तौर पर तुम्हें ये तोहफे भेजे हैं.”


अब वह व्यक्ति तो फूला नहीं समाया, क्योंकि उसे लगा कि राजकुमार नें उसका सम्मान बढाते हुए उसे ये तोहफे दिए हैं और गर्व से भरा हुआ वह अपने दोस्त के पास पहुंचा और उसे यह बात बताकर बोला, “अब तुम्हें पता लगा कि राजकुमार मेरा कितना सम्मान करता है?”

लेकिन उसके दोस्त ने ऐसा जवाब दिया जिसकी उसे उम्मीद भी नहीं थी| उसके दोस्त ने कहा, “ओह! कितना समझदार राजकुमार है, और तुम कितना थोडा समझ पाए हो| उसने symbols(प्रतीकों) की भाषा में बात की है| आटा तुम्हारे खाली पेट को भरने के लिए है; साबुन तुम्हारे विचारों की गंदगी को साफ़ करने के लिए है; और चीनी तुम्हारी कडवी जुबान को मीठा बनाने के लिए है|”

उस दिन के बाद से उस व्यक्ति को खुद से ही शर्म आने लगी| वह राजकुमार से और भी ज्यादा नफरत करने लगा, और उसे अपने उस दोस्त से भी नफरत हो गई जिसने उसे राजकुमार के तोहफों का असली अर्थ बताया था|

लेकिन उसके बाद उसने कडवा बोलना छोड़ दिया|

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

माफ़ करना बेटा !
मोती
आंसू और हंसी
बाज और अबाबील(skylark)
Read More Stories in Hindi 

Last Modified: सोमवार, 23 मार्च 2015

मूर्ति

एक बार की बात है, बहुत दूर पहाड़ियों में एक आदमी रहता था, उसके पास एक मूर्ति थी जो उसके गुरु ने उसे दी थी| यह उसके दरवाजे की बाहर बेकार पडी हुई थी और वह उसे ठीक से रखने की कोई चिंता भी नहीं करता था|

एक बार शहर में रहने वाला एक समझदार आदमी वहां से गुजरा, मूर्ति को देखकर उसने मालिक से इसे खरीदने की इच्छा जाहिर की|

मालिक हंसा और बोला, “आखिर कौन उस बेरंग और गंदे पत्थर को खरीदना पसंद करेगा?”

शहरी आदमी ने कहा, “मैं तुम्हें इसके बदले में चांदी का एक सिक्का देने के लिए तैयार हूँ|”

मूर्ति का मालिक हैरान भी था और खुश भी|

उस मूर्ति को हाथी की पीठ पर लाद कर शहर ले जाया गया| कई महीनों के बाद पहाड़ों में रहने वाला वह व्यक्ति शहर घूमने के लिए आया और जब वह शहर में घूम रहा था तो उसने एक दूकान के बाहर भीड़ देखी, जहां पर एक आदमी खडा होकर चिल्ला रहा था, “आईये और दुनिया की सबसे खूबसूरत और लाजवाब कलाकृति को देखिए| सिर्फ दो चांदी के सिक्कों देकर इस कलाकारी के नायब नमूने का दर्शन कीजिये|”


उस पहाड़ों में रहने वाले उस व्यक्ति नें चांदी के दो सिक्के देकर दूकान में प्रवेश किया और वह यह देखकर हैरान रह गया कि यह तो वही मूर्ति थी जो उसने खुद चांदी के एक सिक्के के बदले में बेच दी थी|

[Friends, हमेशा खुद को बेहतर बनाने की कोशिश करते रहना मानव-स्वभाव है, लेकिन इस दौरान हम कई बार, चीजों को हासिल करने की इस दौड़ में, उन चीजों की कद्र नहीं करते जो कि हमारे पास पहले से ही होती हैं| किसी महान व्यक्ति ने कहा भी है, "मैं इसलिए उदास था क्योंकि मेरे पास पहनने के लिए अच्छे जूते नहीं थे, लेकिन गली में एक ऐसा आदमी भी था जिसके पैर ही नहीं थे|"

Nick Vujicic इसका जीता-जागता उदाहरण हैं जिनका एक वीडियो आप नीचे दिए link पर click करके देख सकते हैं| मुझे इस विडियो को देख कर हमेशा motivation मिलती है|] 

 

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

माफ़ करना बेटा !
बाज और अबाबील(skylark)
आखिर आपका मूल्य क्या है?
Read More Stories in Hindi 

Last Modified: गुरुवार, 19 मार्च 2015

मोती

एक सीप(oyster) ने अपने साथी सीप से कहा, “मुझे अपने अंदर बहुत ज्यादा pain महसूस हो रहा है| यह बहुत भारी और गोल सा है और इसकी वजह से मैं बड़ी तकलीफ में हूँ|”

दूसरी सीप ने घमंड भरी प्रसन्नता से जवाब दिया, “भगवान् का शुक्र है कि मुझे अपने अंदर कोई दर्द नहीं महसूस हो रहा है| मैं अंदर और बाहर दोनों तरह से स्वस्थ और सम्पूर्ण हूँ|”

उसी वक्त एक केंकड़ा(crab) वहां से गुजरा जिसने दोनों सीपियों की बाते सुनी, और वह उस सीप से बोला, जोकि अंदर और बाहर दोनों तरह से स्वस्थ और सम्पूर्ण थी, “यह सही है कि तुम हर तरह से स्वस्थ और सम्पूर्ण हो; लेकिन तुम्हारी साथी सीप को जो दर्द महसूस हो रहा है वह उस बेहद खूबसूरत मोती की वजह से है जोकि उसके पेट में है|”

[Friends, जीवन में कई बार हमें लगता है कि हम बड़े कठिन समय से गुजर रहे हैं या फिर कि दूसरे लोगों का जीवन कहीं ज्यादा आसन है, लेकिन हम अगर यह याद रखें कि जिन्दगी में problems का मकसद हमें और ज्यादा मजबूत और बेहतर बनाना होता है न कि हमें नष्ट करना तो हम बड़ी से बड़ी problem को भी सहजता से सुलझा  सकते हैं|] 

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

माफ़ करना बेटा !
आंसू और हंसी
बाज और अबाबील(skylark)
Read More Stories in Hindi 

Last Modified: सोमवार, 16 मार्च 2015

पैगंबर और बच्चा

एक बार की बात है, एक दिन पैगंबर(Prophet) शरीयत की मुलाकात बगीचे में एक बच्चे से हुई। बच्चा भाग कर उनके पास आ गया और बोला, “Good-morning, Sir,” और पैगम्बर ने जवाब दिया, “Good-morning, Sir.” और एक पल सोच कर कहा, “तुम अकेले ही आए हो|”

बच्चा, हंसा और आनंद से बोला, “मुझे अपनी आया(nurse) से पीछा छुड़ाने में काफी वक्त लग गया| उसे लग रहा है कि मैं उन झाड़ियों के पीछे छुपा हुआ हूँ, लेकिन आप तो देख सकते हो कि मैं तो यहाँ पर खडा हूँ?” फिर उसने पैगम्बर के चेहरे को गौर से दिखा और कहा, “आप भी तो अकेले हैं| आपने अपनी नर्स से कैसे पीछा छुडाया?”

पैगम्बर ने जवाब दिया, “आह! यह तो बिलकुल अलग बात है| सच कहूं तो मैं कई बार उससे पीछा नहीं छुडा पाता| लेकिन अब, जबकि मैं इस बगीचे में आया हूँ, वह मुझे उन झाड़ियों के पीछे ढूंढ रही है|”

बच्चा खुशी से ताली बजाकर बोला, “आप तो बिलकुल मेरी तरह हो! खो जाने में बड़ा मजा आता है, है न?” और फिर उसने पूछा, “आप कौन हैं?”


उस व्यक्ति ने जवाब दिया, “वे मुझे पैगम्बर कहते हैं| अब यह बताओ कि तुम कौन हो?”

“मैं तो केवल मैं ही हूँ,” बच्चा बोला, “मेरी नर्स मुझे ढूंढ रही है, और उसे नहीं पता कि मैं कहाँ पर हूँ|”

पैगम्बर ने सर उठाकर आसामान की तरफ दिखा और कहा, “मैंने भी थोड़ी देर के लिए अपनी नर्स से पीछा छुड़ा लिया है, लेकिन वह मुझे ढूंढ ही निकालेगी|”

और बच्चा बोला, “मुझे भी पता है कि मेरी नर्स भी मुझे ढूंढ ही लेगी|”

उसी वक्त एक महिला की आवाज सुनाई दी जोकि बच्चे को उसके नाम से पुकार रही थी, “देखा,” बच्चा बोला, “मैंने आपको बताया था कि वह मुझे ढूंढ लेगी|”

उसी समय एक और आवाज सुनाई दी, “आप कहाँ हैं पैगम्बर?”

और पैगम्बर ने कहा, “देखा मेरे बच्चे, उन्होंने मुझे भी ढूंढ ही निकाला.”

और फिर अपना चेहरा उठा कर पैगम्बर ने जवाब दिया, “मैं यहाँ पर हूँ|”

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

माफ़ करना बेटा !
आंसू और हंसी
बाज और अबाबील(skylark)
Read More Stories in Hindi 

Last Modified: गुरुवार, 12 मार्च 2015

Walt Disney Quotes in Hindi

Walt Disney (वॉल्ट डिज्नी)
Image Source : Wikipedia

Walt Disney (वॉल्ट डिज्नी) : - Mickey Mouse के जन्मदाता, Disneyland के रचनाकार

1.    A person should set his goals as early as he can and devote all his energy and talent to getting there.

एक इंसान को जितना जल्दी हो सके अपना लक्ष्य निर्धारित कर लेना चाहिए और फिर अपनी सारी ऊर्जा और प्रतिभा, उस लक्ष्य को हासिल करने में लगा देनी चाहिए|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

2.    It's kind of fun to do the impossible.

असंभव से लगने वाले काम को करने का मजा भी अलग ही होता है|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)


3.    We don’t look backwards for very long. We keep moving forward, opening up new doors and doing new things… and curiosity keeps leading us down new paths.

हम बहुत देर तक पीछे मुड कर नहीं देखते| हम आगे बढकर नए दरवाजे खोलते रहते हैं और नयी चीजें करने लगते हैं... और हमारी उत्सुकता(curiosity) हमारे लिए नए रास्ते खोलती रहती है |
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

4.    We're not trying to entertain the critics … I'll take my chances with the public.

हम आलोचकों को खुश करने की कोशिश नहीं करते... इसकी तुलना में,  मैं पब्लिक का मनोरंजन करना ज्यादा पसंद करता हूँ|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

5.    Courage is the main quality of leadership, in my opinion, no matter where it is exercised. Usually it implies some risk — especially in new undertakings.

मेरे विचार से, लीडरशिप के लिए हिम्मत सबसे जरुरी गुण है, अब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि इसका कहाँ इस्तेमाल किया जाता है| बेशक इसके लिए थोड़ा रिस्क उठाना पड़ता है - खासकर कि तब जबकि आप एक नया बिजनेस शुरू कर रहे हों|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)


6.    When we do fantasy, we must not lose sight of reality.

हालाँकि हम कल्पना में रहते हैं लेकिन हमें कभी भी वास्तविकता से मुहं नहीं मोड़ना चाहिए|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)


7.    The human species, although happily ridiculous at times, is still reaching for the stars.

मानव प्रजाति, हालाँकि कभी-कभी बेहद हास्यस्पद(ridicculous) हो जाती है, फिर भी यह सितारों तक पहुँच रही है|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

8.    Somehow, I can't believe that there are any heights that can't be scaled by a man who knows the secret of making dreams come true.

मुझे नहीं लगता कि कोई भी चढ़ाई उस व्यक्ति के लिए असंभव होती है जिसे अपने सपनों को सच बनाने का हुनर आता है|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

Last Modified: सोमवार, 2 मार्च 2015

मेले में...

एक बार मेले में दूर के गावं में रहने वाली एक लडकी आई, जोकि बहुत ही खूबसूरत थी| उसका चेहरा गुलाबी था| उसकी जुल्फें रात की तरह काली थी, और एक दिलकश मुस्कान उसके होठों पर खिली रहती थी|

उस खूबसूरत अजनबी के आने की देर थी कि जवान लड़कों ने उसे ढूंढ लिया और उसके करीब आने की कोशिश करने लगे| एक उसके साथ dance करना चाहता था तो दूसरा उसके सम्मान में cake काटना चाहता था| वे सभी उसके गालों पर kiss करना चाहते थे| अब इसमें हर्ज ही क्या था, आखिर यह एक मेला ही तो था|

लेकिन लडकी इससे shocked हो गयी और चौक पडी, उसके मन में जवान लोगों को लेकर बुरे ख्याल आने लगे| उसने, उन्हें बुरा-भला कहा, और यहाँ तक कि एक-दो को तो उसने थप्पड़ भी लगा दिए| और फिर वह उनसे दूर भाग गई|


उस शाम को वापस घर लौटते समय, वह खुद से मन-ही-मन कह रही थी, “मैं तो तंग आ गई| ये आदमी कितने जंगली और असभ्य हैं| यह सब तो बर्दाश्त से बाहर है|”

एक साल यूं ही गुजर गया और इस दौरान उस बहुत ही खूबसूरत लडकी ने मेलों और आदमियों के बारे में काफी कुछ सोचा| फिर वह लडकी दुबारा मेले में आई, उसका चेहरा गुलाबी था| उसकी जुल्फें रात की तरह काली थी, और एक दिलकश मुस्कान उसके होठों पर खिली हुई थी|

लेकिन अब जवान लड़के उसे देखकर इधर-उधर हो गए| और पूरे दिन उससे कोई नहीं मिला और वह अकेली घूमती रही|

शाम को जब वह, अपने घर की ओर जाने वाली सड़क पर, चलती हुई जा रही थी तो वह अपने मन में कह रही थी, “मैं तो तंग आ गई| ये आदमी कितने जंगली और असभ्य हैं| यह सब तो बर्दाश्त से बाहर है|”

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

The Love Song
माफ़ करना बेटा !
आंसू और हंसी!
बाज और अबाबील(skylark)
Read More Stories in Hindi 

Buy आवारा by Khalil Gibran(in hindi)

Last Modified: गुरुवार, 26 फ़रवरी 2015

आंसू और हंसी

(Khalil Gibran)
एक बार शाम के समय नील नदी के किनारे पर, एक hyena (लकड़बग्घा-एक तरह का कुत्ते जैसा जानवर) की मुलाक़ात एक crocodile(घड़ियाल) से हुई उन्होंने एक दुसरे को देखकर good-afternoon कहा|

Hyena ने बातचीत शुरू की और crocodile से पूछा, “Sir, आज आपका दिन कैसा गुजरा?”

और crocodile ने जवाब दिया, “मेरा दिन तो बड़ा ही खराब रहा| कभी-कभी तो मैं इतना उदास और दुखी हो जाता हूँ कि रोने लगता हूँ, लेकिन दुनिया हमेशा ही यही कहती है कि ‘ये तो सिर्फ घडियाली आंसूं हैं|’ और इससे मुझे कितनी तकलीफ होती है, मैं बयान नहीं कर सकता|”   

अब hyena ने जवाब दिया, “आप तो अपने दुःख और उदासी की बात कर रहे हैं, ज़रा एक पल के लिए मेरे बारे में भी तो सोचिए| मैं तो दुनिया की खूबसूरती को निहारता हूँ, इसके चमत्कारों और अजूबों को देखता हूँ, और जब मैं खुशी के मारे गाना गाने लगता हूँ, तो जंगल के लोग कहते हैं, ‘यह तो लकड़बग्घे की नकली हंसी है|’ ”

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

दूसरे लोग आपके बारे में क्या सोचेंगे ? (article)
माफ़ करना बेटा !
बाज और अबाबील(skylark)
खुशी पहले, बाकी सब बाद में  (article)
Read More Stories in Hindi  

Buy आवारा by Khalil Gibran(in hindi)

Last Modified: शुक्रवार, 20 फ़रवरी 2015

Gautam Buddha Quotes in Hindi

Gautam Buddha (गौतम बुद्ध)

Image Source : Wikipedia

1. Mind precedes all mental states.

मन सभी मानसिक अवस्थाओं से ऊपर है|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)

2. "He insulted me, hit me, beat me, robbed me" — for those who brood on this, hostility isn't stilled. "He insulted me, hit me, beat me, robbed me" — for those who don't brood on this, hostility is stilled

“उसने मेरा अपमान किया, मुझे कष्ट दिया, मुझे लूट लिया”-जो व्यक्ति जीवन भर इन्हीं बातों को लेकर शिकायत करते रहते हैं, वे कभी भी चैन से नहीं रह पाते, सुकून से वही व्यक्ति रहते हैं जो खुद को इन बातों से ऊपर उठा लेते हैं|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)

3. Those who are in earnest do not die, those who are thoughtless are as if dead already.

ज्ञानी व्यक्ति कभी नहीं मरते और जो नासमझ हैं वे तो पहले से ही मरे हुए हैं|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)
4. Just as a fletcher straightens an arrow shaft, even so the discerning man straightens his

जिस तरह से एक तीर(arrow) बेचने वाला अपने तीर को सीधा करता है, उसी तरह से एक समझदार व्यक्ति खुद को साध लेता है|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)

5. Death carries off a man who is gathering flowers and whose mind is distracted, as a flood carries off a sleeping village. (Verse 47)

मौत-एक विचलित मन वाले व्यक्ति को उसी तरह से बहा कर ले जाती है, जिस तरह से बाढ़ में एक गावं के (नींद में डूबे हुए) लोग बह जाते हैं|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)


6. Long for the wakeful is the night. Long for the weary, a league. For fools unaware of True Dhamma, samsara is long.
  
एक जागे हुए व्यक्ति को रात बड़ी लम्बी लगती है| एक थके हुए व्यक्ति को मंजिल बड़ी दूर नजर आती है| सच्चे धर्म से बेखबर मूर्खों के लिए जीवन-मृत्यु का सिलसिला भी उतना ही लंबा होता है|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)

Last Modified: बुधवार, 18 फ़रवरी 2015

The Love Song

(Khalil Gibran)
एक बार एक poet ने एक love song लिखा जो बहुत ही खूबसूरत था| और उसने इसकी बहुत सी duplicate copies बनाई और उन्हें अपने दोस्तों और चाहने वालों को भेज दिया जिसमें स्त्री और पुरुष दोनों ही शामिल थे| और उसने अपने इस song को उस जवान लडकी को भी भेजा जिसे कि वह केवल एक बार मिला था और जो पहाड़ों के दूसरी तरफ रहती थी|

और एक-दो दिन में ही एक आदमी, उस जवान लड़की का सन्देश लेकर उसके पास आ गया| और उस letter  में उस लड़की ने लिखा “जो love song तुमनें मुझे लिखा था वह मेरे दिल को छु गया| अभी आकर मेरे माता-पिता से मिल लो, ताकि हम शादी की तैयारी कर सकें|”

उसके letter के जवाब में poet ने उसे लिखा, “मेरी दोस्त, मैंने यह गीत तुम्हारे लिए नहीं लिखा था यह तो केवल एक poet के दिल से निकला हुआ एक love song था जिसे कि हरेक आदमी हर स्त्री को सुनाता है|”

उस लडकी का जवाब भी जल्दी ही आ गया जिसमें उसनें लिखा, “झूंठे, पाखंडी शब्द लिखने वाले! तुम्हारी वजह से, इस दिन से लेकर अपनी अंतिम सांस तक, अब मैं  सभी कवियों से नफरत करूंगी|”

[यह कहानी आपको कैसी लगी, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


कुछ सम्बंधित लेख

माफ़ करना बेटा !
बाज और अबाबील(skylark)

Last Modified: शुक्रवार, 13 फ़रवरी 2015

बाज और अबाबील(skylark)

(Khalil Gibran)
एक बार की बात है कि एक skylark (अबाबील) और एक बाज की मुलाक़ात एक ऊँची चोटी पर हुई| अबाबील ने बाज से “good morning” कहा| और बाज ने नीचे झुक कर उसे देखा और धीरे से कहा “good morning|”

फिर अबाबील ने पूछा, “उम्मीद है sir कि आपके साथ सब कुछ बढ़िया चल रहा होगा|”

“हां,” बाज ने जवाब दिया, “हमारे साथ सब कुछ ठीक चल रहा है| लेकिन क्या तुम्हें पता है कि हम पक्षियों के राजा हैं, और इसलिए तुम्हें तब तक हमसे बात नहीं करनी चाहिए जब तक हम खुद तुमसे बात नहीं  करना चाहें?”

अबाबील ने कहा, “मुझे तो लगता था कि हम दोनों एक ही परिवार(family) से हैं”|

बाज ने उपेक्षा से उसे देखा और बोला, “यह तुमसे किसने कह दिया कि हम और तुम एक ही परिवार से हैं?”

अबाबील ने जवाब दिया, “लेकिन आपको याद रखना चाहिए कि, मैं, आपसे कहीं ऊंचा उड़ सकता हूँ, और गाना भी गा सकता हूँ और इस तरह धरती के दूसरे जीवों को खुशी दे सकता हूँ| वहीं आप न तो खुशी दे पाते हैं और न ही आनंद|”

अब तो बाज को गुस्सा आ गया, “ ‘खुशी और आनंद!’, तुम एक छोटे से जीव हो और अपनी औकात से बढ़ कर बोल रहे हो| अपनी चोंच के एक ही वार से मैं तुम्हें ख़त्म कर सकता हूँ| तुम तो मेरे पंजों के बराबर हो.”
<div style="text-align: center;">
<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script>
<!-- kkkbi(Text_Link_Between_Post)_Responsive_as -->
<ins class="adsbygoogle"
     style="display:block"
     data-ad-client="ca-pub-1399642601532613"
     data-ad-slot="7879528680"
     data-ad-format="link"></ins>
<script>
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
</script>
<br />
</div>
अब तो झगडा बेहद बढ़ गया और अबाबील उड़ा और बाज की पीठ पर सवार हो गया और उसके पंखों को नोचने लगा| बाज परेशान हो गया, और तेजी से उड़ कर ऊँचाई पर पहुँच गया ताकि वह अबाबील से अपना पीछा छुड़ा सके| लेकिन वह ऐसा नहीं कर पाया| आखिरकार दुखी होकर वह बड़ी पहाडी की उसी चट्टान पर वापिस आकर बैठ गया, छोटा सा पक्षी अभी उसकी पीठ पर सवार था, और वह उस घड़ी को कोस रहा था जब उसका सामना अबाबील से हुआ था|

उसी समय एक छोटा सा कछुआ वहां से गुजरा और उन्हें देखकर हंसने लगा और हँसते-हँसते लोट-पोट हो गया|

बाज, कछुए की ओर देखकर बोला, “जमीन पर रहकर रेंगने वाले छोटे से जीव, तुम हंस किस बात पर रहे हो?”

कछुए ने उसे जवाब दिया, “तुम तो घोड़े की तरह बन गए हो, और एक छोटा सा पक्षी तुम्हारी सवारी कर रहा है, लेकिन उस छोटे पक्षी के तो मजे हैं|”

अब बाज ने उसे जवाब दिया, “चलो जाओ और अपना काम करो| यह मेरे और मेरे भाई ‘अबाबील’ के बीच का मामला है|”

[यह कहानी आपको कैसी लगी, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

The Wanderer by Khalil Gibran
The Love Song  
पैगम्बर और बच्चा
माफ़ करना बेटा !
Read More Stories in Hindi 

Last Modified: शुक्रवार, 30 जनवरी 2015

माफ़ करना बेटा !

                                  (W. Livingston Larned)

“सुनो बेटे; मैं तुमसे यह तब कह रहा हूँ जब तुम गहरी नींद में सोये हुए हो, एक छोटा सा हाथ तुम्हारे गाल के नीचे रखा हुआ है और घुंघराले बालों की एक लट तुम्हारे पसीने से भीगे हुए माथे से सटी हुई है| मैं अकेला ही तुम्हारे कमरे में चुपके से आ गया हूँ| कुछ ही मिनट पहले, जब मैं अपने कमरे में बैठा अखबार पढ़ रहा था, आत्म-ग्लानी की एक लहर मुझ पर छा गई थी| पश्चाताप करते हुए, मैं तुम्हारे सिराहने पर आकर बैठ गया हूँ|

मैं कुछ चीजों के बारे में सोच रहा था, बेटे : जिन्हें मैंने तुम्हें करने से रोका था| मैं तुम्हें तब कोस रहा था जब तुम स्कूल के लिए तैयार हो रहे थे क्योंकि तुमने केवल गीले तौलिये से अपना चेहरा पोंछ लिया था| मैंने तुम्हारे गंदे जूतों के लिए तुम्हें डांटा था| मैं तुम पर तब चिल्लाया था जब तुम्हें अपनी कुछ चीजें फर्श पर फेंक दी थी|

नाश्ते के समय भी मैं कमियाँ ही ढूंढ रहा था| तुम्हें चीजों को बिखेर दिया था| तुमने अपने खाने को, ठीक से चबाये बिना ही, निगल लिया था| तुमने अपनी कोहनियों को टेबल पर रखा था| तुमने अपनी ब्रेड पर मक्खन की ज्यादा मोटी परत लगाई थी| और जब तुम खेलने के लिए तैयार हुए और मैं अपनी ट्रेन पकड़ने के लिए जा रहा था, तुमने पीछे मुडकर और एक हाथ हिलाकर कर कहा “गुडबाय डैडी!” और मैंने नाराज होकर चिल्लाया था, “सामने देखो|”

Last Modified: सोमवार, 19 जनवरी 2015

फ्री में काम कीजिए !

(Original Post : Working for free, Dec 7th, 2007 by Steve Pavlina

बहुत से लोग मुझसे पूछते है कि वे कैसे नई दिशा में काम करके इनकम कमा सकते हैं, खासकर कि वैसा काम जोकि काफी रचनात्मक या कलात्मक होता है| कुछ लोग तो पहले ही काफी सामग्री जैसेकि एल्बम या फिर किताबें या पेंटिंग बना चुके होते हैं, लेकिन वे उससे कोई धन नहीं कमा रहे होते| कुछ के पास काफी अच्छे स्तर का हुनर होता है लेकिन उनके पास कोई ग्राहक या खरीददार नहीं होते और वे नहीं जानते कि कैसे लोगों को अपना सामान खरीदने के लिए मनाया जाए?

मैं आमतौर पर ऐसे लोगों से कहता हूँ कि उन्हें अपना ध्यान पैसे कमाने पर फोकस करने के बजाए वैल्यू पहुंचाने पर लगाना चाहिए| मैं इस बात पर जोर देता हूँ कि कलाकारी का एक नमूना बनाने से या फिर एक हुनर विकसित करने से किसी को कोई वैल्यू नहीं मिलती और इसलिए इससे कोई इनकम भी नहीं उत्पन्न होती | वास्तव में अपनी कलाकृति या हुनर को दूसरों के साथ बांटना, दूसरों तक वैल्यू  पहुंचाता है और वहीं पर अपने काम से इनकम कमाने की संभावना होती है|

अगर आपने एक एल्बम, एक किताब, या फिर एक कलाकृति बनाई है, तो आखिर कितने लोग हर रोज इसे देखते हैं? अगर यह आपके स्टोर रूम के एक कोने में पडी हुई है, तो फिर इससे धन कमाने की संभावना नहीं के बराबर है क्योंकि यह दूसरों को कोई वैल्यू प्रदान नहीं करती|

लोगों को अपने काम की वैल्यू दिखाने का एक सबसे बेहतर तरीका है कि इसे उनके साथ फ्री में बाँट दिया जाए| इससे लोगों का रिस्क कम हो जाता है और इससे, उनके लिए, आपकी वैल्यू हासिल करना आसान हो जाता है| इस तरीके से आप अपनी वैल्यू दूसरों के साथ फौरन बाँट सकते हैं|

Last Modified: शुक्रवार, 9 जनवरी 2015

आज का विचार (भाग 1)(e-book) : हर दिन-एक अच्छा विचार आपके जीवन की दिशा बदल सकता है|

नए साल की आप सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं| 

मुझे आपको यह बताते हुए बेहद खुशी हो रही है कि मेरी पहली किताब 'आज का विचार (भाग -1)' अब e-book के रूप में उपलब्ध है| आप इस किताब (pdf format) को लेख के नीचे दिए गए लिंक से बिना किसी शुल्क के डाउनलोड कर सकते हैं| 

यह किताब विभिन्न लेखकों के द्वारा लिखे गए विचारों का संग्रह है| जीवन में खुश रहना आपके विचारों की गुणवत्ता पर निर्भर करता है| किसी भी व्यक्ति के कर्मों पर उसके विचारों का प्रभाव साफ़ तौर से देखा जा सकता है| आज के इस आपा-धापी के दौर में, हममें से हरेक इंसान, आसानी से धन कमाने, सुख-सुविधाओं को जुटाने और आराम से जीवन जीने के लिए, किसी ने किसी रेस में दौड़ रहा है| इस दौरान हम सभी के जीवन में ऐसे मौके आते रहते हैं जब हम जीवन की कठिनाइयों से हार मानने लगते हैं| और जब ऐसा होता है तो हमें शान्ति और धीरज की तलाश रहती है चाहे वह सुकून कुछ पलों का ही क्यों न हो| उदासी के काले बादलों में रौशनी की एक किरण भी अनमोल होती है|

इस किताब में दिए गए विचार, जीवन के कठिन रास्तों पर चलते वक्त, आपको न सिर्फ राहत के कुछ पल प्रदान करेंगे बल्कि आपको जीवन जीने के लिए उचित रास्ता भी दिखलाएंगे| 

आप हर रोज सुबह इस पुस्तक में दिए गए विचारों में से एक पढ़िए और जल्द ही आप इसका प्रभाव अपने जीवन में देख पाएंगे|


My Other Blogs: www.seedsformind.blogspot.in/ Websites : kkkbi.com