Google Custom Search


Custom Search

आज का विचार

आज का विचार (Thought of the Day in Hindi): (Subscribe by e-mail)

Last Modified: गुरुवार, 26 फ़रवरी 2015

आंसू और हंसी

(Khalil Gibran)
एक बार शाम के समय नील नदी के किनारे पर, एक hyena (लकड़बग्घा-एक तरह का कुत्ते जैसा जानवर) की मुलाक़ात एक crocodile(घड़ियाल) से हुई उन्होंने एक दुसरे को देखकर good-afternoon कहा|

Hyena ने बातचीत शुरू की और crocodile से पूछा, “Sir, आज आपका दिन कैसा गुजरा?”

और crocodile ने जवाब दिया, “मेरा दिन तो बड़ा ही खराब रहा| कभी-कभी तो मैं इतना उदास और दुखी हो जाता हूँ कि रोने लगता हूँ, लेकिन दुनिया हमेशा ही यही कहती है कि ‘ये तो सिर्फ घडियाली आंसूं हैं|’ और इससे मुझे कितनी तकलीफ होती है, मैं बयान नहीं कर सकता|”   

अब hyena ने जवाब दिया, “आप तो अपने दुःख और उदासी की बात कर रहे हैं, ज़रा एक पल के लिए मेरे बारे में भी तो सोचिए| मैं तो दुनिया की खूबसूरती को निहारता हूँ, इसके चमत्कारों और अजूबों को देखता हूँ, और जब मैं खुशी के मारे गाना गाने लगता हूँ, तो जंगल के लोग कहते हैं, ‘यह तो लकड़बग्घे की नकली हंसी है|’ ”

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

दूसरे लोग आपके बारे में क्या सोचेंगे ? (article)
माफ़ करना बेटा !
बाज और अबाबील(skylark)
खुशी पहले, बाकी सब बाद में  (article)
Read More Stories in Hindi  

Buy आवारा by Khalil Gibran(in hindi)

Last Modified: शुक्रवार, 20 फ़रवरी 2015

Gautam Buddha Quotes in Hindi

Gautam Buddha (गौतम बुद्ध)

Image Source : Wikipedia

1. Mind precedes all mental states.

मन सभी मानसिक अवस्थाओं से ऊपर है|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)

2. "He insulted me, hit me, beat me, robbed me" — for those who brood on this, hostility isn't stilled. "He insulted me, hit me, beat me, robbed me" — for those who don't brood on this, hostility is stilled

“उसने मेरा अपमान किया, मुझे कष्ट दिया, मुझे लूट लिया”-जो व्यक्ति जीवन भर इन्हीं बातों को लेकर शिकायत करते रहते हैं, वे कभी भी चैन से नहीं रह पाते, सुकून से वही व्यक्ति रहते हैं जो खुद को इन बातों से ऊपर उठा लेते हैं|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)

3. Those who are in earnest do not die, those who are thoughtless are as if dead already.

ज्ञानी व्यक्ति कभी नहीं मरते और जो नासमझ हैं वे तो पहले से ही मरे हुए हैं|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)
4. Just as a fletcher straightens an arrow shaft, even so the discerning man straightens his

जिस तरह से एक तीर(arrow) बेचने वाला अपने तीर को सीधा करता है, उसी तरह से एक समझदार व्यक्ति खुद को साध लेता है|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)

5. Death carries off a man who is gathering flowers and whose mind is distracted, as a flood carries off a sleeping village. (Verse 47)

मौत-एक विचलित मन वाले व्यक्ति को उसी तरह से बहा कर ले जाती है, जिस तरह से बाढ़ में एक गावं के (नींद में डूबे हुए) लोग बह जाते हैं|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)


6. Long for the wakeful is the night. Long for the weary, a league. For fools unaware of True Dhamma, samsara is long.
  
एक जागे हुए व्यक्ति को रात बड़ी लम्बी लगती है| एक थके हुए व्यक्ति को मंजिल बड़ी दूर नजर आती है| सच्चे धर्म से बेखबर मूर्खों के लिए जीवन-मृत्यु का सिलसिला भी उतना ही लंबा होता है|
-गौतम बुद्ध (Gautam Buddha)

Last Modified: बुधवार, 18 फ़रवरी 2015

The Love Song

(Khalil Gibran)
एक बार एक poet ने एक love song लिखा जो बहुत ही खूबसूरत था| और उसने इसकी बहुत सी duplicate copies बनाई और उन्हें अपने दोस्तों और चाहने वालों को भेज दिया जिसमें स्त्री और पुरुष दोनों ही शामिल थे| और उसने अपने इस song को उस जवान लडकी को भी भेजा जिसे कि वह केवल एक बार मिला था और जो पहाड़ों के दूसरी तरफ रहती थी|

और एक-दो दिन में ही एक आदमी, उस जवान लड़की का सन्देश लेकर उसके पास आ गया| और उस letter  में उस लड़की ने लिखा “जो love song तुमनें मुझे लिखा था वह मेरे दिल को छु गया| अभी आकर मेरे माता-पिता से मिल लो, ताकि हम शादी की तैयारी कर सकें|”

उसके letter के जवाब में poet ने उसे लिखा, “मेरी दोस्त, मैंने यह गीत तुम्हारे लिए नहीं लिखा था यह तो केवल एक poet के दिल से निकला हुआ एक love song था जिसे कि हरेक आदमी हर स्त्री को सुनाता है|”

उस लडकी का जवाब भी जल्दी ही आ गया जिसमें उसनें लिखा, “झूंठे, पाखंडी शब्द लिखने वाले! तुम्हारी वजह से, इस दिन से लेकर अपनी अंतिम सांस तक, अब मैं  सभी कवियों से नफरत करूंगी|”

[यह कहानी आपको कैसी लगी, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


कुछ सम्बंधित लेख

माफ़ करना बेटा !
बाज और अबाबील(skylark)

Last Modified: शुक्रवार, 13 फ़रवरी 2015

बाज और अबाबील(skylark)

(Khalil Gibran)
एक बार की बात है कि एक skylark (अबाबील) और एक बाज की मुलाक़ात एक ऊँची चोटी पर हुई| अबाबील ने बाज से “good morning” कहा| और बाज ने नीचे झुक कर उसे देखा और धीरे से कहा “good morning|”

फिर अबाबील ने पूछा, “उम्मीद है sir कि आपके साथ सब कुछ बढ़िया चल रहा होगा|”

“हां,” बाज ने जवाब दिया, “हमारे साथ सब कुछ ठीक चल रहा है| लेकिन क्या तुम्हें पता है कि हम पक्षियों के राजा हैं, और इसलिए तुम्हें तब तक हमसे बात नहीं करनी चाहिए जब तक हम खुद तुमसे बात नहीं  करना चाहें?”

अबाबील ने कहा, “मुझे तो लगता था कि हम दोनों एक ही परिवार(family) से हैं”|

बाज ने उपेक्षा से उसे देखा और बोला, “यह तुमसे किसने कह दिया कि हम और तुम एक ही परिवार से हैं?”

अबाबील ने जवाब दिया, “लेकिन आपको याद रखना चाहिए कि, मैं, आपसे कहीं ऊंचा उड़ सकता हूँ, और गाना भी गा सकता हूँ और इस तरह धरती के दूसरे जीवों को खुशी दे सकता हूँ| वहीं आप न तो खुशी दे पाते हैं और न ही आनंद|”

अब तो बाज को गुस्सा आ गया, “ ‘खुशी और आनंद!’, तुम एक छोटे से जीव हो और अपनी औकात से बढ़ कर बोल रहे हो| अपनी चोंच के एक ही वार से मैं तुम्हें ख़त्म कर सकता हूँ| तुम तो मेरे पंजों के बराबर हो.”
<div style="text-align: center;">
<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script>
<!-- kkkbi(Text_Link_Between_Post)_Responsive_as -->
<ins class="adsbygoogle"
     style="display:block"
     data-ad-client="ca-pub-1399642601532613"
     data-ad-slot="7879528680"
     data-ad-format="link"></ins>
<script>
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
</script>
<br />
</div>
अब तो झगडा बेहद बढ़ गया और अबाबील उड़ा और बाज की पीठ पर सवार हो गया और उसके पंखों को नोचने लगा| बाज परेशान हो गया, और तेजी से उड़ कर ऊँचाई पर पहुँच गया ताकि वह अबाबील से अपना पीछा छुड़ा सके| लेकिन वह ऐसा नहीं कर पाया| आखिरकार दुखी होकर वह बड़ी पहाडी की उसी चट्टान पर वापिस आकर बैठ गया, छोटा सा पक्षी अभी उसकी पीठ पर सवार था, और वह उस घड़ी को कोस रहा था जब उसका सामना अबाबील से हुआ था|

उसी समय एक छोटा सा कछुआ वहां से गुजरा और उन्हें देखकर हंसने लगा और हँसते-हँसते लोट-पोट हो गया|

बाज, कछुए की ओर देखकर बोला, “जमीन पर रहकर रेंगने वाले छोटे से जीव, तुम हंस किस बात पर रहे हो?”

कछुए ने उसे जवाब दिया, “तुम तो घोड़े की तरह बन गए हो, और एक छोटा सा पक्षी तुम्हारी सवारी कर रहा है, लेकिन उस छोटे पक्षी के तो मजे हैं|”

अब बाज ने उसे जवाब दिया, “चलो जाओ और अपना काम करो| यह मेरे और मेरे भाई ‘अबाबील’ के बीच का मामला है|”

[यह कहानी आपको कैसी लगी, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

The Wanderer by Khalil Gibran
The Love Song  
पैगम्बर और बच्चा
माफ़ करना बेटा !
Read More Stories in Hindi