Google Custom Search


Custom Search

आज का विचार

आज का विचार (Thought of the Day in Hindi): (Subscribe by e-mail)

Last Modified: सोमवार, 30 मार्च 2015

मुश्किलों का स्वागत कीजिए

अपनी काम की समस्याओं का धन्यवाद दीजिए| क्योकिं आपको अपनी आधी इनकम उन्हीं की वजह से मिलती है| क्योंकि अगर गलत होने वाली चीजें नहीं होतीं, या फिर ऐसे कठिन लोग नहीं होते जिनका सामना आपको करना पड़ता है, या फिर समस्याएं नहीं होती, या फिर आपका काम उबाऊ नहीं होता, तो कोई भी व्यक्ति आपको मिलने वाली सैलरी के आधे में ही, इस काम करने लिए तैयार हो जाता|

किसी भी काम की मुश्किलों को हल करने के लिए समझदारी, सूझ-बूझ, कुशलता और हिम्मत की जरूरत पड़ती है| और आपके पास आपकी वर्तमान नौकरी होने की यही वजह है| और शायद यही वजह है कि आप इससे बेहतर कोई दूसरी नौकरी नहीं कर रहे| 

अगर हममें से हरेक और ज्यादा मुश्किलों का स्वागत करने लगे, और उन्हें खुशी-खुशी, एक अच्छे विवेक के साथ संभालना सीख जाए, बजाय उनसे परेशान होने के, तो हम बहुत तेजी के साथ आगे बढ़ सकते हैं| क्योंकि यह तो एक सच्चाई है कि काफी तादाद में बड़ी नौकरियाँ उन लोगों का इन्तजार कर रहीं होती हैं जोकि उनसे जुडी मुश्किलों से नहीं घबराते|

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

खुशी पहले, बाकी सब बाद में 
आखिर आपका मूल्य क्या है?
आत्म-अनुशासन : कठिन-परिश्रम

Read More Articles in Hindi 

यह लेख 'आज का विचार(भाग-1) से लिया गया है|
आज का विचार (भाग-1) खरीदें

Last Modified: गुरुवार, 26 मार्च 2015

तीन तोहफे!

एक बार की बात है कि किसी राज्य में एक राजकुमार रहता था जिसे उसके राज्य के सभी लोग पसंद करते थे और उसका सम्मान करते थे|

उसी राज्य में एक बेहद गरीब आदमी भी रहता था जो उस राजकुमार से बहुत चिढ़ता था, और वह लगातार उसके बारे में अपनी कडवी जुबान से अनाप-शनाप बातें बोलता रहता था|

राजकुमार को यह बात पता थी, फिर भी वह उसे अनदेखा कर दिया करता था|

लेकिन एक ऐसा वक्त भी आया जब राजकुमार के लिए उस व्यक्ति को अनदेखा करना मुश्किल हो गया; और फिर सर्दी की एक रात उस व्यक्ति के दरवाजे पर राजकुमार का एक नौकर आया जिसके पास आटे की एक बोरी, साबुन का एक बैग और चीनी का एक cone था|

नौकर उस व्यक्ति से कहा, “राजकुमार नें यादगार के तौर पर तुम्हें ये तोहफे भेजे हैं.”


अब वह व्यक्ति तो फूला नहीं समाया, क्योंकि उसे लगा कि राजकुमार नें उसका सम्मान बढाते हुए उसे ये तोहफे दिए हैं और गर्व से भरा हुआ वह अपने दोस्त के पास पहुंचा और उसे यह बात बताकर बोला, “अब तुम्हें पता लगा कि राजकुमार मेरा कितना सम्मान करता है?”

लेकिन उसके दोस्त ने ऐसा जवाब दिया जिसकी उसे उम्मीद भी नहीं थी| उसके दोस्त ने कहा, “ओह! कितना समझदार राजकुमार है, और तुम कितना थोडा समझ पाए हो| उसने symbols(प्रतीकों) की भाषा में बात की है| आटा तुम्हारे खाली पेट को भरने के लिए है; साबुन तुम्हारे विचारों की गंदगी को साफ़ करने के लिए है; और चीनी तुम्हारी कडवी जुबान को मीठा बनाने के लिए है|”

उस दिन के बाद से उस व्यक्ति को खुद से ही शर्म आने लगी| वह राजकुमार से और भी ज्यादा नफरत करने लगा, और उसे अपने उस दोस्त से भी नफरत हो गई जिसने उसे राजकुमार के तोहफों का असली अर्थ बताया था|

लेकिन उसके बाद उसने कडवा बोलना छोड़ दिया|

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

माफ़ करना बेटा !
मोती
आंसू और हंसी
बाज और अबाबील(skylark)
Read More Stories in Hindi 

Last Modified: सोमवार, 23 मार्च 2015

मूर्ति

एक बार की बात है, बहुत दूर पहाड़ियों में एक आदमी रहता था, उसके पास एक मूर्ति थी जो उसके गुरु ने उसे दी थी| यह उसके दरवाजे की बाहर बेकार पडी हुई थी और वह उसे ठीक से रखने की कोई चिंता भी नहीं करता था|

एक बार शहर में रहने वाला एक समझदार आदमी वहां से गुजरा, मूर्ति को देखकर उसने मालिक से इसे खरीदने की इच्छा जाहिर की|

मालिक हंसा और बोला, “आखिर कौन उस बेरंग और गंदे पत्थर को खरीदना पसंद करेगा?”

शहरी आदमी ने कहा, “मैं तुम्हें इसके बदले में चांदी का एक सिक्का देने के लिए तैयार हूँ|”

मूर्ति का मालिक हैरान भी था और खुश भी|

उस मूर्ति को हाथी की पीठ पर लाद कर शहर ले जाया गया| कई महीनों के बाद पहाड़ों में रहने वाला वह व्यक्ति शहर घूमने के लिए आया और जब वह शहर में घूम रहा था तो उसने एक दूकान के बाहर भीड़ देखी, जहां पर एक आदमी खडा होकर चिल्ला रहा था, “आईये और दुनिया की सबसे खूबसूरत और लाजवाब कलाकृति को देखिए| सिर्फ दो चांदी के सिक्कों देकर इस कलाकारी के नायब नमूने का दर्शन कीजिये|”


उस पहाड़ों में रहने वाले उस व्यक्ति नें चांदी के दो सिक्के देकर दूकान में प्रवेश किया और वह यह देखकर हैरान रह गया कि यह तो वही मूर्ति थी जो उसने खुद चांदी के एक सिक्के के बदले में बेच दी थी|

[Friends, हमेशा खुद को बेहतर बनाने की कोशिश करते रहना मानव-स्वभाव है, लेकिन इस दौरान हम कई बार, चीजों को हासिल करने की इस दौड़ में, उन चीजों की कद्र नहीं करते जो कि हमारे पास पहले से ही होती हैं| किसी महान व्यक्ति ने कहा भी है, "मैं इसलिए उदास था क्योंकि मेरे पास पहनने के लिए अच्छे जूते नहीं थे, लेकिन गली में एक ऐसा आदमी भी था जिसके पैर ही नहीं थे|"

Nick Vujicic इसका जीता-जागता उदाहरण हैं जिनका एक वीडियो आप नीचे दिए link पर click करके देख सकते हैं| मुझे इस विडियो को देख कर हमेशा motivation मिलती है|] 

 

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

माफ़ करना बेटा !
बाज और अबाबील(skylark)
आखिर आपका मूल्य क्या है?
Read More Stories in Hindi 

Last Modified: गुरुवार, 19 मार्च 2015

मोती

एक सीप(oyster) ने अपने साथी सीप से कहा, “मुझे अपने अंदर बहुत ज्यादा pain महसूस हो रहा है| यह बहुत भारी और गोल सा है और इसकी वजह से मैं बड़ी तकलीफ में हूँ|”

दूसरी सीप ने घमंड भरी प्रसन्नता से जवाब दिया, “भगवान् का शुक्र है कि मुझे अपने अंदर कोई दर्द नहीं महसूस हो रहा है| मैं अंदर और बाहर दोनों तरह से स्वस्थ और सम्पूर्ण हूँ|”

उसी वक्त एक केंकड़ा(crab) वहां से गुजरा जिसने दोनों सीपियों की बाते सुनी, और वह उस सीप से बोला, जोकि अंदर और बाहर दोनों तरह से स्वस्थ और सम्पूर्ण थी, “यह सही है कि तुम हर तरह से स्वस्थ और सम्पूर्ण हो; लेकिन तुम्हारी साथी सीप को जो दर्द महसूस हो रहा है वह उस बेहद खूबसूरत मोती की वजह से है जोकि उसके पेट में है|”

[Friends, जीवन में कई बार हमें लगता है कि हम बड़े कठिन समय से गुजर रहे हैं या फिर कि दूसरे लोगों का जीवन कहीं ज्यादा आसन है, लेकिन हम अगर यह याद रखें कि जिन्दगी में problems का मकसद हमें और ज्यादा मजबूत और बेहतर बनाना होता है न कि हमें नष्ट करना तो हम बड़ी से बड़ी problem को भी सहजता से सुलझा  सकते हैं|] 

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

माफ़ करना बेटा !
आंसू और हंसी
बाज और अबाबील(skylark)
Read More Stories in Hindi 

Last Modified: सोमवार, 16 मार्च 2015

पैगंबर और बच्चा

एक बार की बात है, एक दिन पैगंबर(Prophet) शरीयत की मुलाकात बगीचे में एक बच्चे से हुई। बच्चा भाग कर उनके पास आ गया और बोला, “Good-morning, Sir,” और पैगम्बर ने जवाब दिया, “Good-morning, Sir.” और एक पल सोच कर कहा, “तुम अकेले ही आए हो|”

बच्चा, हंसा और आनंद से बोला, “मुझे अपनी आया(nurse) से पीछा छुड़ाने में काफी वक्त लग गया| उसे लग रहा है कि मैं उन झाड़ियों के पीछे छुपा हुआ हूँ, लेकिन आप तो देख सकते हो कि मैं तो यहाँ पर खडा हूँ?” फिर उसने पैगम्बर के चेहरे को गौर से दिखा और कहा, “आप भी तो अकेले हैं| आपने अपनी नर्स से कैसे पीछा छुडाया?”

पैगम्बर ने जवाब दिया, “आह! यह तो बिलकुल अलग बात है| सच कहूं तो मैं कई बार उससे पीछा नहीं छुडा पाता| लेकिन अब, जबकि मैं इस बगीचे में आया हूँ, वह मुझे उन झाड़ियों के पीछे ढूंढ रही है|”

बच्चा खुशी से ताली बजाकर बोला, “आप तो बिलकुल मेरी तरह हो! खो जाने में बड़ा मजा आता है, है न?” और फिर उसने पूछा, “आप कौन हैं?”


उस व्यक्ति ने जवाब दिया, “वे मुझे पैगम्बर कहते हैं| अब यह बताओ कि तुम कौन हो?”

“मैं तो केवल मैं ही हूँ,” बच्चा बोला, “मेरी नर्स मुझे ढूंढ रही है, और उसे नहीं पता कि मैं कहाँ पर हूँ|”

पैगम्बर ने सर उठाकर आसामान की तरफ दिखा और कहा, “मैंने भी थोड़ी देर के लिए अपनी नर्स से पीछा छुड़ा लिया है, लेकिन वह मुझे ढूंढ ही निकालेगी|”

और बच्चा बोला, “मुझे भी पता है कि मेरी नर्स भी मुझे ढूंढ ही लेगी|”

उसी वक्त एक महिला की आवाज सुनाई दी जोकि बच्चे को उसके नाम से पुकार रही थी, “देखा,” बच्चा बोला, “मैंने आपको बताया था कि वह मुझे ढूंढ लेगी|”

उसी समय एक और आवाज सुनाई दी, “आप कहाँ हैं पैगम्बर?”

और पैगम्बर ने कहा, “देखा मेरे बच्चे, उन्होंने मुझे भी ढूंढ ही निकाला.”

और फिर अपना चेहरा उठा कर पैगम्बर ने जवाब दिया, “मैं यहाँ पर हूँ|”

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

माफ़ करना बेटा !
आंसू और हंसी
बाज और अबाबील(skylark)
Read More Stories in Hindi 

Last Modified: गुरुवार, 12 मार्च 2015

Walt Disney Quotes in Hindi

Walt Disney (वॉल्ट डिज्नी)
Image Source : Wikipedia

Walt Disney (वॉल्ट डिज्नी) : - Mickey Mouse के जन्मदाता, Disneyland के रचनाकार

1.    A person should set his goals as early as he can and devote all his energy and talent to getting there.

एक इंसान को जितना जल्दी हो सके अपना लक्ष्य निर्धारित कर लेना चाहिए और फिर अपनी सारी ऊर्जा और प्रतिभा, उस लक्ष्य को हासिल करने में लगा देनी चाहिए|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

2.    It's kind of fun to do the impossible.

असंभव से लगने वाले काम को करने का मजा भी अलग ही होता है|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)


3.    We don’t look backwards for very long. We keep moving forward, opening up new doors and doing new things… and curiosity keeps leading us down new paths.

हम बहुत देर तक पीछे मुड कर नहीं देखते| हम आगे बढकर नए दरवाजे खोलते रहते हैं और नयी चीजें करने लगते हैं... और हमारी उत्सुकता(curiosity) हमारे लिए नए रास्ते खोलती रहती है |
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

4.    We're not trying to entertain the critics … I'll take my chances with the public.

हम आलोचकों को खुश करने की कोशिश नहीं करते... इसकी तुलना में,  मैं पब्लिक का मनोरंजन करना ज्यादा पसंद करता हूँ|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

5.    Courage is the main quality of leadership, in my opinion, no matter where it is exercised. Usually it implies some risk — especially in new undertakings.

मेरे विचार से, लीडरशिप के लिए हिम्मत सबसे जरुरी गुण है, अब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि इसका कहाँ इस्तेमाल किया जाता है| बेशक इसके लिए थोड़ा रिस्क उठाना पड़ता है - खासकर कि तब जबकि आप एक नया बिजनेस शुरू कर रहे हों|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)


6.    When we do fantasy, we must not lose sight of reality.

हालाँकि हम कल्पना में रहते हैं लेकिन हमें कभी भी वास्तविकता से मुहं नहीं मोड़ना चाहिए|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)


7.    The human species, although happily ridiculous at times, is still reaching for the stars.

मानव प्रजाति, हालाँकि कभी-कभी बेहद हास्यस्पद(ridicculous) हो जाती है, फिर भी यह सितारों तक पहुँच रही है|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

8.    Somehow, I can't believe that there are any heights that can't be scaled by a man who knows the secret of making dreams come true.

मुझे नहीं लगता कि कोई भी चढ़ाई उस व्यक्ति के लिए असंभव होती है जिसे अपने सपनों को सच बनाने का हुनर आता है|
- वॉल्ट डिज्नी (Walt Disney)

Last Modified: सोमवार, 2 मार्च 2015

मेले में...

एक बार मेले में दूर के गावं में रहने वाली एक लडकी आई, जोकि बहुत ही खूबसूरत थी| उसका चेहरा गुलाबी था| उसकी जुल्फें रात की तरह काली थी, और एक दिलकश मुस्कान उसके होठों पर खिली रहती थी|

उस खूबसूरत अजनबी के आने की देर थी कि जवान लड़कों ने उसे ढूंढ लिया और उसके करीब आने की कोशिश करने लगे| एक उसके साथ dance करना चाहता था तो दूसरा उसके सम्मान में cake काटना चाहता था| वे सभी उसके गालों पर kiss करना चाहते थे| अब इसमें हर्ज ही क्या था, आखिर यह एक मेला ही तो था|

लेकिन लडकी इससे shocked हो गयी और चौक पडी, उसके मन में जवान लोगों को लेकर बुरे ख्याल आने लगे| उसने, उन्हें बुरा-भला कहा, और यहाँ तक कि एक-दो को तो उसने थप्पड़ भी लगा दिए| और फिर वह उनसे दूर भाग गई|


उस शाम को वापस घर लौटते समय, वह खुद से मन-ही-मन कह रही थी, “मैं तो तंग आ गई| ये आदमी कितने जंगली और असभ्य हैं| यह सब तो बर्दाश्त से बाहर है|”

एक साल यूं ही गुजर गया और इस दौरान उस बहुत ही खूबसूरत लडकी ने मेलों और आदमियों के बारे में काफी कुछ सोचा| फिर वह लडकी दुबारा मेले में आई, उसका चेहरा गुलाबी था| उसकी जुल्फें रात की तरह काली थी, और एक दिलकश मुस्कान उसके होठों पर खिली हुई थी|

लेकिन अब जवान लड़के उसे देखकर इधर-उधर हो गए| और पूरे दिन उससे कोई नहीं मिला और वह अकेली घूमती रही|

शाम को जब वह, अपने घर की ओर जाने वाली सड़क पर, चलती हुई जा रही थी तो वह अपने मन में कह रही थी, “मैं तो तंग आ गई| ये आदमी कितने जंगली और असभ्य हैं| यह सब तो बर्दाश्त से बाहर है|”

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें]

नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें : 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

The Love Song
माफ़ करना बेटा !
आंसू और हंसी!
बाज और अबाबील(skylark)
Read More Stories in Hindi 

Buy आवारा by Khalil Gibran(in hindi)